Web  hindi.cri.cn
ताओफ़ू कांउटी के वृद्ध आश्रम में पिता और पुत्र की भावना
2015-04-30 16:25:45 cri

श्याओ रेअतंग बहुत अच्छे इंसान हैं। वे इस वृद्ध आश्रम में रहने वाले सभी बुजुर्गों के पैर धोते हैं, मुंह धोते हैं और नहलाते हैं। कभी-कभार वे वृद्ध लोगों के कपड़ो की तह बनाकर रखते हैं। यहां सभी उनके प्रशंसक हैं।

 

पिछले 19 सालों में बुढ़े छन की देखभाल के दौरान श्याओ रेअतंग को कई मुश्किलों का सामना करना पड़ता था। बुढ़े छन के बीमार होने के वक्त उनकी देखभाल, इलाज करने और औषधियों के खर्च उनके लिए बोझ जैसा था। एक बार उन्होंने बुढ़े छन की देखभाल छोड़ने का भी सोचा था। लेकिन उनकी शारीरिक स्थिति देख उन पर दया आ गई और बुढ़े छन की देखभाल करना जारी रखा।

बुढ़े छन की देखभाल के दौरान श्याओ रेअतंग को आर्थिक मुसिबतों के अलावा दूसरे लोगों की असमझी का भी सामना करना पड़ता है। इसके प्रति उन्हें अफ़सोस होता है। श्याओ रेअतंग ने कहाĄG

"दूसरे लोग मुझे नहीं समझते हैं। कुछ लोगों ने कहा कि बुढ़ों की देखभाल करने से तुम्हें क्या लाभ मिलेगा। कुछ ने कहा कि इस प्रकार की कार्रवाई से सरकार और पार्टी संगठन तुम्हें मॉडल कार्यकर्ता का पुरस्कार देंगी। कुछ लोगों ने कहा कि मेरी यह कार्रवाई झूठी है।"


1 2 3 4 5 6 7
आप  की  राय  लिखें
© China Radio International.CRI. All Rights Reserved.
16A Shijingshan Road, Beijing, China. 100040