rIr氞えr屲r氞ぞr囙えrrߓrたr~ぞ r˓rZrrߓrr_ぐjいj/a>

rIきjくrむぞr撪E r曕 rうrZえ rrZうrZえ r_ぐ rおrI rIrr曕 rΓZjrあrぞr r曕ぞ rぁrぞ rすrむr/h1>
2019-05-20 10:32:11
rhr~ぐ
rhr~ぐ Close
Messenger Messenger Pinterest LinkedIn

rIきjくrむぞr撪E r曕 rうrZえ rrZうrZえ r_ぐ rおrI rIrr曕 rΓZjrあrぞr r曕ぞ rぁrぞ rすrむr/></p><p class=rIきjくrむぞr撪E r曕 rうrZえ rrZうrZえ r_ぐ rおrI rIrr曕 rΓZjrあrぞr r曕ぞ rぁrぞ rすrむr/cite>

r氞rr_riぞrZぞ r忇ざrWくrZK rIきjくrむぞr撪E r曕 rIEriぞrrIぎjぎj囙げrr曕ぞ rくjϓ_rr曕ぐr rI riたrhrrIきjくrむぞr撪E r曕 rうrZえ-rrZうrZえ r_ぐ rおrI rIrr曕 rΓZjrあrぞr, riたr曕ぞr rさrZ]rZぐ r_ぐ rIぞrぞrMたrrIぎj冟Y#55332;砤䪠䰠L䪠䤠करने का बड़ा महत्व है। यूनेस्को के सामाजिक विज्ञान के सहायक निदेशक नाडा अल-नशीफ ने हाल ही में पेइचिंग में इस सम्मेलन में भाग लेते हुए संवाददाताओं के सामने यह बात कही।

उन्होंने कहा कि सम्मेलन में सभ्यताओं की विविधता, समानता, समावेशिता पर ज़ोर दिया गया। उन्हें खुशी है कि चीन ने एशियाई सभ्यताओं के संवाद में बड़ी भूमिका निभाई।

नाडा अल-नशीफ ने कहा कि यूनेस्को ने चीन के साथ मज़बूत साझेदार संबंधों की स्थापना की, आपसी घनिष्ठ सहयोग जारी है। चीन ने यूनेस्को के सिल्क रोड से संबंधित परियोजनाओं के लिए बड़ा समर्थन किया है। उन्होंने कहा कि यूनेस्को ने चीन द्वारा प्रस्तुत समानता, आपसी समझ, संवाद और सहिष्णुता की अवधारणा को मान्यता दी है। यूनेस्को को विश्वास है कि सांस्कृतिक विविधता विकास, नवाचार और सामाजिक समृद्धि को प्राप्त करने के लिए महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है।

(वनिता)

शेयर

सबसे लोकप्रिय

Related stories