rIr氞えr屲r氞ぞr囙えrrߓrたr~ぞ r˓rZ#19104;में भर्ती

अमेरिका और ईरान ने एक-दूसरे के सैन्य संगठनों को आतंकी सूची में शामिल किया

2019-04-10 17:31:18
शेयर
शेयर Close
Messenger Messenger Pinterest LinkedIn

अमेरिका और ईरान ने वर्तमान में एक दूसरे के सशस्त्र को आतंकवादी संगठन निर्धारित करने की घोषणा की। इसके बाद कुछ मध्य पूर्व देशों ने इस पर अपना रूख बताया।

ईरानी मीडिया के अनुसार, ईरान के सर्वोच्च नेता आयतुल्लाह सैयद अली ख़ामेनेई, ईरान के राष्ट्रपति हसन रोहानी और ईरानी संसद के प्रमुख लारीजानी ने वक्तव्य जारी कर अमेरिका की जोरदार निंदा की।

आयतुल्लाह सैयद अली ख़ामेनेई ने कहा कि अमेरिका ने ईरान के इस्लामिक रिवोल्यूशनरी गार्ड को आतंकवादी संगठन निर्धारित किया, यह ईरान का विरोध करने वाला व्यवहार है। हसन रोहानी ने भी कहा कि वे हमेशा इस्लामिक रिवोल्यूशनरी गार्ड का समर्थन करते हैं, क्योंकि इस्लामिक रिवोल्यूशनरी गार्ड हमेशा आतंकवादी गतिविधि के खिलाफ काम करते हैं। लारीजानी ने कहा कि इस्लामिक रिवोल्यूशनरी गार्ड ने चरम पंथी संगठन इस्लामिक स्टेट संगठन के खिलाफ कार्रवाई में महत्वपूर्ण भूमिका निभायी है।

सीरियाई विदेश मंत्रालय ने 8 अप्रैल को वक्तव्य जारी कर अमेरिका की जोरदार निंदा की। उनका मानना है कि यह ईरान की संप्रभुता का उल्लंघन किया गया है। इस्लामिक रिवोल्यूशनरी गार्ड ने अमेरिका की हेगड़ेवाद और इज़राइल की आक्रामकता का विरोध करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं।

वहीं इजरायल के प्रधानमंत्री नेतनयाहू ने 8 अप्रैल को ट्विटर पर कहा कि वे अमेरिका के इस फैसले का स्वागत करते हैं। उन्होंने कहा कि इजरायल अमेरिका के साथ ईरानी खतरा के खिलाफ काम करेगा।

यमनी विदेश मंत्रालय ने भी 8 अप्रैल को वक्तव्य जारी कर कहा कि वे अमेरिका के इस फैसला का स्वागत करते हैं। आशा है कि यह फैसला क्षेत्रीय स्थिरता बढ़ेगी। उन्होंने अंतरराष्ट्रीय समुदाय से ईरान पर दबाव बनाने की अपील की।

(मीरा)

शेयर

सबसे लोकप्रिय

Related stories