rむrZr曕, rZrr_ぐ r堗ぐrZえ r曕 rrむぞr撪E r rIrZたr~ぞrrIrZXjしrrߓr_r_ rぐ r氞ぐj᱓]rr曕

2019-09-17 11:45:57
Comment
rhr~ぐ
rhr~ぐ Close
Messenger Messenger Pinterest LinkedIn

rむrZr曕, rZrr_ぐ r堗ぐrZえ r曕 rrむぞr撪E r 16 rIたrむErぐ r曕 rむrZr曕 r曕 rZぞrMぇrZえjrEr曕ぞrZぞ rߓrrrX r曕, r_ぐ rIrZたr~ぞrrIrZXjしrrIぎrIr~ぞ rぐ r氞ぐj᱓]rr曕jrZえr曕ぞ rぞrえrr r曕た rZいjいrrざj᱓]rWぎjrIrZたr~ぞ r曕 r囙うrたrr曕rTrむrrߓrrEr rIぎrrむX r~r_rriたrZぞrrぞrIたrr曕ぐrぞ rrぞjbr/>

rむrZr曕 rب䰠L䷠䟠䰠䪠䤠Lरिसेप तईप एरडोगन, रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन और ईरान के राष्ट्रपति हसन रोहानी ने उस दिन अस्ताना प्रक्रिया के आधार पर शिखर सम्मेलन आयोजित किया। संयुक्त प्रेस सम्मेलन में रिसेप तईप एरडोगन ने कहा कि इस सम्मेलन में वे सीरिया के इदलिब क्षेत्र की गम्भीर स्थिति पर ध्यान केंद्रित रखेंगे। इस साल के अप्रैल से अब तक कुल लगभग एक हजार आम नागरिक इस क्षेत्र में हुए हवाई हमलों और जमीनी सैन्य अभियान में मारे गए हैं। उन्होंने कहा कि चरम पंथी संगठन इस्लामिक स्टेट के खिलाफ हमले के नाम पर आतंकी व्यक्तियों को समर्थन करना अस्वीकार्य व्यवहार है। तुर्की, रूस और ईरान को सीरिया की शांति के लिए अपनी जिम्मेदारी लेनी चाहिए।

तीनों नेताओं ने सीरिया की क्षेत्रीय अखंडता को बनाए रखने पर आम सहमति प्राप्त की। इसके साथ ही तीनों नेता सीरियाई संवैधानिक परिषद की स्थापना को बढ़ावा देंगे, ताकि सीरियाई समस्या के हल के लिए एक दीर्घावधि तंत्र बनाया जा सके।

(मीरा)

शेयर

सबसे लोकप्रिय

Related stories