r曕rTrむrZrrぐjぅrWX rIErぐj᱓X r曕 rߓ_rがjRい r曕ぐr r_ぐ rいrRXriぞr_ r曕rTrむrrߓrrrrr忇ErrZrr曕 rすrr_rたr曕ぞ r曕ぞ rZ]j᱓] rߓrr~ぞrRXr/h1>
2019-10-14 14:22:22
शेयर
शेयर Close
Messenger Messenger Pinterest LinkedIn

11 से 12 अक्तूबर को तुर्की के इस्तांबुल में छह देशों के संसद अध्यक्षों की तीसरी बैठक बुलायी गयी। बैठक में क्षेत्रीय आर्थिक संपर्क को मजबूत करने और आतंकवाद विरोधी मामलों पर विचार विमर्श किया गया और इस्तांबुल घोषणा पत्र जारी किया गया। बैठक में उपस्थित प्रतिनिधियों ने बेल्ट एंड रोड पहल के क्षेत्रीय आर्थिक आपसी संपर्क को मजबूत करने और आतंकवाद विरोधी क्षेत्र में इस की भूमिका का उच्च मूल्यांकन किया।

चीनी एनपीसी की स्थायी कमेटी के उपाध्यक्ष वांग तोंगमिंग ने प्रतिनिधियों के साथ बैठक में हिस्सा लिया। उद्घाटन समारोह में वांग तोंगमिंग ने कहा कि विकास से सुरक्षा को बढ़ावा देना, आपसी संपर्क से विकास को बढ़ावा देना कदम ब कदम अंतर्राष्ट्रीय समुदाय की व्यापक सहमति बन चुकी है। पिछले छह सालों में रूस, ईरान, तुर्की और अफगानिस्तान समेत 160 से अधिक देशों व अंतर्राष्ट्रीय संगठनों ने चीन के साथ बेल्ट एंड रोड के सहनिर्माण के दस्तावेज पर हस्ताक्षर किये।

पाक सीनेट के उपाध्यक्ष सलीम मांडवीवल्ला ने कहा कि बेल्ट एंड रोड पहल ने चीन और इस से जुड़े देशों व क्षेत्रों के संपर्क को मजबूत किया, साथ ही आर्थिक सहयोग को मजबूत करने के तरीकों से रेशम मार्ग से जुड़े देशों के आतंकवादी दबाव को कम भी किया है।

बैठक में उपस्थित प्रतिनिधियों ने यह मानना कि बेल्ट एंड रोड अंतर्राष्ट्रीय आर्थिक सहयोग पर केंद्रित है, जिस का मकसद जुड़े हुए देशों के आर्थिक विकास को आगे बढ़ाना और स्थानीय जनता के जीवन स्तर को उन्नत करना है। हालिया अंतर्राष्ट्रीय स्थिति में क्षेत्रीय आपसी संपर्क और आतंकवाद विरोधी संघर्ष में बेल्ट एंड रोड के निर्माण का खास अर्थ है।

(श्याओयांग)

शेयर