rIr氞えr屲r氞ぞr囙えrrߓrたr~ぞ r˓rZrrߓrr_ぐjいj/a>

r堗ぐrZえ r曕 rrむぞr撪E r_ぐ rぞr曕たrIrむぞr rrZぇrZえrߓErむrZ r r曕rTrむrZrrIrムたrむた rぐ riたr氞ぞrriたrぐjざ r曕たr~ぞ

2019-10-14 15:04:56
rhr~ぐ
rhr~ぐ Close
Messenger Messenger Pinterest LinkedIn

13 rXjいjRがrr曕 r堗ぐrZえ r曕 rIぐjさjϓ]j᱓] rrむぞ rげjr栢ぜrZぎj囙えj囙K, rZぞrTrerZおrむた rじrrZrぞr r rげrrげrrむrrぐ r堗ぐrZえ r曕 r~ぞrむrZぞ rぐ r˓R rぞr曕たrIrむぞrr曕 rrZぇrZえrߓErむrZ r囙ぎrZぞrr栢ぞrr曕 rIぞrrߓrぞr曕ぞrr曕jrZえjすjϓEr r曕rTrむrZrrIrムたrむた rうrrߓr_r_rrぐ riたr氞ぞrriたrぐjざ r曕たr~ぞj/p>

r堗ぐrZえ r曕 r囙じjげrZぎrWX rZたrがjげrWX rr~rr忇_j囙ErI r曕 #16736;䨠P丠L䰠इमरान खान की इस बार की ईरान यात्रा का प्रमुख मुद्दा क्षेत्रीय शांति और स्थिरता को आगे बढ़ाना है। मुलाकात में ख़ामेनेई ने कहा कि यमन मुठभेड़ की समाप्ति से क्षेत्रीय स्थिति पर सकारात्मक प्रभाव पड़ेगा। इस मुद्दे पर ईरान की समुचित समाधान योजना है।

ख़ामेनेई ने कहा कि क्षेत्र में कुछ देश आतंकवादी संगठनों का समर्थन करते हैं, जो विनाशकारी भूमिका निभा रही है।

हसन रोहानी ने इमरान खान के साथ मुलाकात में जोर देते हुए कहा कि यमन में युद्ध विराम करना क्षेत्रीय तनाव कम करने का पहला कदम है। क्षेत्र में देशों को क्षेत्रीय सुरक्षा की गारंटी करनी चाहिए।

ईरान के नेताओं के साथ मुलाकात में इमरान खान ने पाकिस्तान की तरफ से आशा प्रकट की कि वार्ता से ईरान और सऊदी अरब के बीच मतभेद समेत इस क्षेत्र के कुछ मतभेदों का समाधान किया जा सकता है।

रिपोर्ट के अनुसार इस के बाद इमरान खान सऊदी अरब की यात्रा करेंगे।

(वनिता)

शेयर

सबसे लोकप्रिय

Related stories